Tuesday, December 15, 2009

वो घाव ....

           हिमालय कि गोद में जन्म लेना परम सौभाग्य कि बात कही जा सकती है.  इसे  ईश्वर की असीम अनुकम्पा कहू या पिछले जन्म के कुछ सत्कर्मो का फल , मेरा जन्म देव भूमि उत्तराँचल में हुआ. विषम परिस्थितियों में समता का प्रतीक पर्वतीय अंचल  और उसकी गोद में अटखेलिया करता हुआ मैं, दोनों  उस जनवरी  माह की धूप में वसंत के आगमन की प्रतीक्षा कर रहे थे. मैं इसलिए क्योंकि पीड़ादायिनी ठण्ड मेरे मन और शरीर दोनों को घातक प्रतीत होती थी परन्तु ये पर्वत ना जाने क्यूँ प्रतीक्षारत थे . शायद इस काल के दुशासनों द्वारा धरती माँ का वन रुपी चीर हरण किये जाने के कारण इनकी देह भी शीत के प्रहार को सहने में असमर्थ हो गयी थी. इस चीर हरण का परिणाम  इतिहास के पृष्ठों पर अंकित करने के लिए महाभारत की भांति भगवान् को ही लेखनी उठानी पड़ेगी , क्यूंकि लेखन और प्रतिपादन की मानव निर्मित अत्याधुनिक युक्तियो के   किसी दिव्य नौका के सहारे प्रलय के ग्रास से सकुशल निकलने की सम्भावना मेरे द्वारा करेले के साग को खाए जाने जितनी क्षीण हैं .वैसे द्यूतसभा कोपेनहेगन में ज़ारी है. इस बार राज हड़पने के लिए नहीं कालिख ( कार्बन ) के  साम्राज्य को मिटाने के लिए.

जो भी हो ,, मैं धूप सेक रहा था. ऊष्मा ग्रहण करने के लिए भी कुछ नियम क़ानून हैं. पिताजी ने सिखाया है कि
" घाम पीठ सेइय ऊर आगि " - अर्थात धूप पीठ पर और आग की ओर मुहं कर उन्हें सेकना चाहिए . अब मुझे यह याद नहीं कि जीवन के छठे वसंत की प्रतीक्षा करता हुआ मैं उपरोक्त नियम का पालन कर रहा था या नहीं. मैं शीतावकाश में बागेश्वर आया हुआ था. यह वो नगर है जहाँ विद्यालय ने पहली बार मेरे दर्शन किये थे. मैं एक बहुत ही उज्जड बालक था. इस कथन को पुष्ट करने के लिए बहुत से वर्तांत हैं . फिलहाल उनकी मेरी लेखनी से शत्रुता मान सकते हैं जो उन्हें मैं यहाँ वर्णित नहीं कर रहा.

यहाँ मेरे बहुत सारे मित्र थे , उनमे से कुछ मेरी तरह , और कुछ मेरे से दो कदम आगे. मेरी हर छोटी से छोटी शरारत में मेरी मित्र "मंटू" मेरा साथ दिया करती थी. कक्षा की  एक और मित्र का मुझे अभी भी स्मरण है वो थी "पायल".  पूर्व वर्णित मित्रो से पूरे दो वर्ष बाद मिलने का सुअवसर प्राप्त हुआ था.  मंटू और मैं पडोसी थे, सो आते ही पहले उससे मिला था. यह दूसरा दिन था और सुबह के दस बज रहे थे. तभी मेरे अग्रज मनोज दा ने मुझे आवाज दी कि पायल वहां है, तू उससे  मिला नहीं. सुनते ही मैं इंगित दिशा को भागा. ठीक वक़्त पे मेरी प्रतिभा की पहचान न हो पाई थी  वरना आज "उसेन बोल्ट" को रजत पदक से संतोष करना पड़ता. मैंने देखा  कि वो मंदिर वाले मैदान में खड़ी है , और मैं उसकी ओर भागा जा रहा था .

अभी मैं उसके पास पहुंचा भी नहीं था कि अचानक मुख के विभिन्न भागो में भयानक पीड़ा से मैं धरा पे लोटने लगा. शायद
मित्र से मिलने कि प्रबल इच्छा ने  मुझे अंधा कर दिया था जो मैं उस मैदान के चारो ओर लगी कंटीली लोहे की तार- बाड़ को नहीं देख पाया. भौतिक शास्त्री के दुर्घटना वर्णन के अनुसार गतिमान नरेन्द्र पन्त  और स्थिर कंटीली लोहे की बाड़ के बीच शीर्षाभिमुख टक्कर के फलस्वरूप नरेन्द्र पन्त की गतिज उर्जा अब कंटीली बाड़ की कम्पन उर्जा और नरेन्द्र पन्त की ध्वनि ऊर्जा अर्थात  चीखो में परिवर्तित हो चुकी थी. मुख पे जगह जगह कंटीली बाढ़ ने अपना कौशल दिखा दिया था. बरसाती सड़क की भांति गड्ढे बन चुके थे अंतर सिर्फ उन गड्ढो में भरे द्रव का था. दुर्घटना की भयावहता का अनुमान इस तथ्य  से लगाया जा सकता है कि मेरी जिव्हा के बीचो बीच पोलो मिंट कि गोली जितना बड़ा छिद्र बन गया था पर पोलो मिंट कि गोली जितनी  मात्रा में  ठंडक पहुंचती है उससे दोगुने अनुपात में गर्मी यह घाव पहुंचा रहा था. बड़े भैया दौड़े हुए आये और मुझे ले गए , हमने घर में बताया नहीं . बताने पर तमाचो का भय था. बाल्यावस्था में  तमाचो की संख्या चीटियों की कालोनी की जनसँख्या से कही कम नहीं रही होगी. अत: भय अकारण नहीं कहा जा सकता. लेकिन नवी नवेली दुल्हन की मेहँदी की तरह मेरे रक्तरंजित मुख की कांति छिपी न रह सकी.

तमाचो ने अपनी महत्ता खोने नहीं दी . शायद प्रबलता में कुछ कमी रह गयी हो . वैसे भी हर तूफ़ान सुनामी हो तो अनर्थ न हो जाये. दवा दारू का विधान संपन्न हुआ,  धीरे धीरे घाव भर गए , पर उस मित्र से मैं फिर नहीं मिल पाया. यह घाव शायद ही कभी भर पाए.

Saturday, December 12, 2009

real video in fedora 10.

was not able to run real video in movie player on fedora 10.

there was no video codec  drvc.so in /usr/lib/codecs


searched for the codec ,, it was in realplayer install directory ..
copied it  to /usr/lib/codecs... 


voila..

 

Monday, December 7, 2009

fedora 10 - bluetooth problem solved ,,

[root@localhost Desktop]# hciconfig hci0 class
hci0:    Type: USB
    BD Address: 00:1D:D9:E6:65:E9 ACL MTU: 1017:8 SCO MTU: 64:8
    Class: 0x4a010c
    Service Classes: Networking, Capturing, Telephony
    Device Class: Computer, Laptop
 

[root@localhost Desktop]# hciconfig hci0 class 0x5a210c
 

[root@localhost Desktop]# hciconfig hci0 class
hci0:    Type: USB
    BD Address: 00:1D:D9:E6:65:E9 ACL MTU: 1017:8 SCO MTU: 64:8
    Class: 0x5a210c
    Service Classes: Networking, Capturing, Object Transfer, Telephony
    Device Class: Computer, Laptop



i got this solution from here . I didn't restart the service ,, as Object Transfer was removed after the restart , also i was not able to send files from my cell to laptop. :( ,,  but from lappy to cell it's working ...

Sunday, November 29, 2009

firefox 3.0.14 - not able to load java.

Mozilla/5.0 (X11; U; Linux i686; en-US; rv:1.9.0.14) Gecko/2009090905 Fedora/3.0.14-1.fc10 Firefox/3.0.14

was trying to access a virtual lab .. oops

your browser is not able to load java.

I was surprised as few days back I was able to access it w/o any issues.
then I checked the firefox version and it was 3.0.14 .. ohh seems it is updated ( auto update). and i knew the culprit ,, plugin must not be there in the  firefox installation directory . in my case
/usr/lib/firefox... 

yeah there was no plugins dir under ../../firefox-3.0.14/    .
checked the previous installation and ya plugins dir is there.
seems firefox does not import these plugins settings after update..
now I was confused ,, is it a bug or purposefully its left like that.

Any way I created the plugins dir under current firefox installtion dir.
then create symbolic links.
 

ln -s /usr/java/jdk1.7.0/jre/plugin/i386/ns7/libjavaplugin_oji.so

same was the case with my flashplayer plugin. also created sym link for that.

ln -s /usr/java/jdk1.7.0/jre/plugin/i386/ns7/libjavaplugin_oji.so

voila..

Friday, October 9, 2009

Pixel of Torek



Pixel was there and will alweys be with you Torek .

Sunday, October 4, 2009

www.outlookindia.com | The Secret Diary Of Barack Obama

www.outlookindia.com | The Secret Diary Of Barack Obama 

nice imagination :)

Saturday, October 3, 2009

dunno whom to VOTE??

How precious is my vote ,I am really confused. every time I cast it, it's like dumping it.. any way someone has to get it. There is no political leader who won't snatch my bread n butter to feed himself. I used to be a fan on BJP once , not exactly BJP ..it was Atal ji. I still admire Atal ji. frankly speaking it was not me , it was a seed of favoring Hindutva which was sown by the bullshit talks of elders of the society . As a child I tried to think the same way ,there was no other political party for my thoughts. God swear ,I never found that borrowed thinking fitting anywhere with me.. they were dumped as soon as i realized that they were absolutely wrong. So narrow are their thoughts, eg if u are eating with a guy of other religion they will think u are favoring his religion. And I have got nothing other than a loud laugh on this. No more comments.

all people are same, why the hell we treat them differently on the besis of religion. I had spent quite a fair amount of time away from home in hostel, before turning fifteen. Religion never found a place in our discussions as well as in thoughts. We were brothers to each other we are . Used to share same plates. But if u tell ur elders that u had meal in same plate with some guy and if they figure out that he follows some other religion. u are screwed. U will get a big lecture. He's fm different community ,,, blah blah. Our elders and the acts of political parties change a innocent child to person dipped in religious hatred.

In India people are highly emotional with their religion and region.Unfortunately the political parties which are growing like mushrooms leverage these sentiments to get into power. I don't agree with the saying that British were best at divide and rule.British divided others..but Indians divide their own. now u say who is better at it.

Recent example from Maharashtra, India, where people who had came from other parts of country and had put efforts for generations to bring so called financial capital status to Mumbai were crushed. Only because they are not native to that place. And who started this... Mr Raj Thakre. if I would have done the same act, Indian police as well as public would have doomed me. but why that guy is still on the helms.simple answer he is a politician, celebrity. U cannot treat him like that.That guy and his party has blown the highly unconstitutional trumpet in their election manifest that they will check the migration to Maharshtra.And BJP has also joined hands with them, they will contest this election in coalition. claps to them and claps to Voters if they get a single vote other than their own.I know people will go and vote them .. because we Indians are assholes.We are single minded to warm our pocket. We don't care even if someone else will die of that.Yes it is the fact admit it. I also used to do it.Actually these leaders divide us and lure us by false commitments and they go to any extent to gain power.

IMO this guy and his party should be canned and tortured in public,,But u won't do it ..that will be unconstitutional. See how much we care 'bout law when we are involved. they break the laws and the ruling party in the state watches all this for their benefit. They want it to shoot high so that they will automatically be good guys when other turns bad in eyes of people . All are same . dunno whom to vote??... yup i started with the same line.

Friday, August 21, 2009

रेमेम्बेरिंग पहाड़

आज इसे पढ़कर अपने अन्दर का देबिया मुझे दिखा , ईमानदार पाण्डेय जी ये वाक्य अमोल हैं ---

ये इस लिंक से लिया गया है ।
http://www.readers-cafe.net/uttaranchal/2008/10/08/remembering-pahar/


मैं याने देवकीनंदन पांडे उर्फ़ डी. एन. पांडे पुत्र गंगा दत्त पांडे इस शहर के कई फलानों वल्द ढिकानों में से एक हूँ, जो विगत अनेक वर्षों से एक बोर रूटीन वाली जिन्दगी से चिपका हुआ है, जिसे आम तौर पर सामान्य जिन्दगी कहा जाता है | पर मेरे अन्दर एक और ‘मैं’ है जिसका कई बार गला घोंटने के बाद भी वह एक उद्दंड बालक की तरह मेरे सामने आ खड़ा होता है। न जाने कहाँ ढील रह गयी इतने साल के ‘देशीपने’ के बाद भी कि यह साला कुकुरी का चेला ‘देबिया’ मेरे अन्दर जिंदा है। हाँ………….हाँ वही ‘देबिया’ जो काफलीगैर, कनालीछीना या खरई, खत्याड़ी या फ़िर गणई, गंगोली में कहीं रहता था या रहता है।
अब इस देबिया को कैसे समझाऊं कि मैं यहाँ,इस शहर में अदब -तमीज वाला एक संभ्रांत व्यक्ति हूँ | लोहा की हुई पतलून और बुशशर्ट पहनता हूँ | अपने मिलने वालों से ‘हेल्लो’ या ‘हाय’ करता हूँ | अंग्रेजी फ़िल्म या हिन्दी नाटक देखता हूँ | काफी हाउस में राजनीतिक या साहित्यिक बहस करता हूँ | हाथ में चुरुट और बगल में पत्रिका रखता हूँ | संक्षेप में इंटेलेक्चुअल-कम-सोफिस्टिकेटेड होने का दंभ भरता हूँ | अब इस साले देबिया को क्या मालूम कि आज कल ये सब करना कितना जरूरी है - रोटी खाने और पानी पीने से भी ज्यादा जरूरी।
लेकिन अपना देबिया रहा वही भ्यास का भ्यास | चाहता है कि मैं मैली कुचैली बंडी और पैजामा -जिसका नाड़ा कम से कम छै इंच लटका हो- पहन कर गोरु-बाछों का ग्वाला जाऊं, रास्ते में हिसालू,किलमोड़ी या काफल चुन-चुन कर खाऊँ,पत्थर के नीचे दबी बीड़ी के सुट्टे मारूं | पहाड़ के उस तरफ़ पहुँच कर धात लगाऊँ -गितुली………..गितुली वे उईईईईई और शाम को घर पंहुंच कर ईजा के सिसुणे की झपकार खाऊँ |
मेरे अन्दर का यह देबिया नामक जंतु असभ्यता की पराकाष्ठा पार करते हुए साबित करना चाहता है कि स्कूल में मास्सेप के झोले से मूंगफली चुराकर खाने और दंडस्वरूप जोत्याये जाने पर ‘ओ इजा मर गयूं‘ की हुंकार लगाने का आनंद किसी नाटक देखने से बढ़कर है | बकौल देबिया ‘लोहे की कढाई में लटपट जौला धपोड़ने या फ़िर धुंए और गर्मी के मिले जुले असर के बीच तेज मिर्च वाले सलबल रस-भात का स्यां-स्यां करते हुए और सिंगाणा सुड़कते हुए रसास्वादन करना, बिरयानी खाने से ज्यादा प्रीतकर है|‘
ये देबिया जब मोटर की भरभराट से उठ कर विस्फारित नेत्रों से रेल नामक चीज को देख रहा था, वह दृश्य मुझे अभी तक याद है | ‘बबा हो इसका तो अंती नहीं हो कका‘ उसने अपने कका से कहा था | धीरे-धीरे देबिया ऐसे कई चमत्कारों का अभ्यस्त हो चला था | अब उसकी आँखें विस्फारित न रह कर शून्य रहतीं,देबिया धीरे-धीरे गुम होता जा रहा था जीवन की आपाधापी में| मैं भी यही चाहता था| मुझे यकीन था की एक दिन देबिया सुसाइड कर लेगा, पर समय बीतने के साथ-साथ महसूस होने लगा की देबिया मरा नहीं है | अक्सर उसकी मंद-मंद आवाज़ मुझे सुनाई देती | धीरे-धीरे मेरा शक विश्वास में बदल गया कि देबिया जिंदा है- पूरी शिद्दत से | उसकी आवाज़ चीख में बदल गयी थी और वह मुझ पर हावी होने लगा था |

Wednesday, July 29, 2009

love you Anushka

Wednesday, July 22, 2009

install flash player without admin priv

(http://fpdownload.macromedia.com/get/flashplayer/xpi/current/flashplayer-win.xpi)

this file u have to download

change the extn as .zip
and extraxt and copy NPSWF32.dll and flashplayer.xpt and paste in the plugin dir of firefox ,, restart and enjoy

http://hackspc.com/install-flash-player-without-having-administrative-privileges/

full tute here :)

Thursday, July 9, 2009

WTF.....

Sunday, April 19, 2009

must watch :) - love u Natalie



i was just watching " LEON " aka "The Professional" .... do watch this movie ,, the cute lil (at that time) girl Natalie Portman is awsome in that. I just love her, can't help it.. and the Jean Reno the great Leon .... so cool in cleaning (killing). Gary Oldman is thundering while having crack . u can find a good copy at mininova. great movie ...made my Saturday eve

Saturday, March 21, 2009

making ROTI with roti maker

Friday, March 13, 2009

International date line

Thursday, March 12, 2009

Tennis Majors

Period Tournament Location Surface

January- Australian Open- Melbourne- Hard (Plexicushion)
May-June - French Open- Paris -Clay
June-July- Wimbledon- London Grass
August-September- US Open - New York City- Hard (DecoTurf)

HOLI

Saturday, February 28, 2009

top 25 linux games

http://rangit.com/software/top-8-linux-games-of-2007

out of them drive Mania drive and American army seems interesting :) , have a look

Monday, February 23, 2009

Preupgrade - fedora distro

How to use PreUpgrade

  1. Back up all important data before upgrading.
  2. Run the yum update command as root to make sure all packages are updated to their latest versions.
  3. Run the yum install preupgrade command as root to install PreUpgrade.
  4. Run the preupgrade command as root to start the PreUpgrade application.
  5. Select the Fedora release you want to upgrade to on the Choose desired release screen, and click the Apply button.
  6. When all of the packages have downloaded, reboot your system to start the Fedora installer.
i was upgrading from fedora 8 to fedora 10 , but i earlier installed the packages from livna and freshrpm repo . so it was causing dependency problem in step no 2 . yum update .

so i had to exclude them

yum update --exclude=xine-lib

and then there were few warning regarding the dependecies in the preupgrade , but all ended well.

the most annoying thing was the slow download of the packages.

one more thing , i am not having the linux grub , instead of that i have solaris grub , so when it reboots , u wont find an option for the upgrade in the boot menu , all u have to do that , boot into soalris and read the grub entries from the linux grub.conf and update menu.lst , and now reboot and boot into the fedora upgrade. after the upgrade it will again reboot and now again u have to make new entries in the soalris grub.conf/ menu.lst .

u all at home :) . enjoy mighty fedora 10.

another way to upgrade using yum is here.

azureus / vuze on fedora 10


installed azureus using yum .
yum -y install azureus
it was running fine other than flash plugin miissing prompt , i installed the flash plugin , but no fortune . after that it notified that a new version Vuze 4.1.0.0 is available and i downloaded that . now there was no way to upgrade the previous installation ,

i had to remove previously installed azureus using

yum remove azureus
now i extracted the newer version in the /usr/share . u can place it whereever u like .


still there was the missing flash plugin . then i created a sym link to the /usr/lib/flash-plugin/libflashplayer.so in new vuze/azureus plugin directory

but even this could not fix the missing plugin problem .

i created a symlink like this ..

ln -s /usr/lib/flash-plugin/libflashplayer.so /usr/lib/xulrunner-1.9/plugins/
and now it is working fine :)

Sunday, February 22, 2009

missing dependencies error in yum

u need to do
rpm –rebuilddb

and it will get fixed , i have yet not tried that , got it somewhere on the net.

Saturday, February 21, 2009

grep packages installed from a specific repo

rpm -qa --queryformat "%{NAME}-%{VERSION}-%{RELEASE}.%{ARCH}-%{VENDOR}\n"|grep Freshrpms.net

change freshrpm with any other repo to see the installed packages of that repo.

enable hidden administrator account in vista

run the command prompt as administrator and type the below mentioned command and u will get the administrator account on the login screen


net user administrator /active:yes

b
y default there is no password for the admin .

if u wannu disable that

type

net user administrator /active:no

increase Half open ports in windows

i found a fix here http://half-open.com/download_en.htm . run it and change the # of ports to some value near 100 or something other . there is a higher limit and that is more that 65535 , i duuno why .. i think u might get better speed with torrents than u were getting earlier . works fine on vista :)

Friday, January 30, 2009

सूर्पनख एवं सुग्रीव

हांय ये कैसा मेल है , वो भी इस घोर कलियुग में। मैं भी आश्चर्यचकित था कि युगों कि दीवारों को लांघकर वानर राज़ यहाँ कैसे आ गए , वो भी मेरी इंजीनियरिंग के प्रथम वर्ष में मिलन समारोह (गेट टुगेदर) में । मुझे वानर राज़ के अस्तित्व के बारे में कोई शंका नहीही है और ना ही कभी थी। बचपन से ही मैं धार्मिक पुस्तकों में पढता रहा हूँ कि प्रभु विभिन्न रूपों में अवतार लेते हैं , और इस बार का अवतार मेरे साथ इंजीनियरिंग कर रहा है ये देखकर मैंने अपने को धन्य मानने लगा था । ये भी सुना था कि जब जब पाप बढ़ते हैं तभी अवतार होते हैं । अब मैं भयभीत था कि कहीं मुझ पापी का संहार करने के लिए तो ये अवतार यहाँ नही । परन्तु मैं एक युवती के हाथो अपना अंत मस्तिष्क पटल पर चित्रित नही कर पा रहा था ।

अब निश्चिंत मन ज्ञान गंगा में गोते लगाने में लिए व्याकुल हो रहा था , मुझे भी कोई आपत्ति नही थी । अरे
प्रभु दर्शन ऐसे ही नही होते , बड़े बड़े ज्ञानी महात्मा अपना जीवन न्योछावर कर देते हैं , तुझे तो जीवन के पहले चतुर्थांस में ही ये सौभाग्य प्राप्त हो गया है । धन्य है तू । अरे प्रभु एक क्षण में गायब हो जाते हैं , तेरे साथ तो पूरे चार वर्ष रहेंगे । मन मयूर ने अपने पंख फैला ही लिए थे कि , मैंने सोचा कि एक बार फिर से परिचय लेकर प्रभु के अवतार कि पुष्टि कर लेता हूँ ।

मुझे उस मिलन समारोह में सूचना प्रोद्योगिकी के कुछ प्रिय वरिष्ठ बंधुओं द्वारा काले परिधान में लिपटी मेरे वर्ष की एक युवती का नाम पता करने के अभियान पर भेजा गया था । अभियान इसलिए कह रहा हूँ कि अनजान कन्या से उसका परिचय प्राप्त करने की कोशिश के
बहुत दुष्परिणाम हो सकते हैं । कही रूप का कोई पुजारी आपकी बलि देने के लिए तैयार बैठा हो । साथ ही वो अपनी प्रकृति की कुछ और जीवत्माओ से घिरी थी , सो बेज्ज़ती का और खतरा था । कन्या वर्ग से अपना कोई परिचय भी नही था । अरे कभी मौका ही नही मिला , मौका मिला तो आलस्य के मारे उसे हाथ से जाने दिया। आलस्य का पुतला मैं उसी वस्तु के लिए प्रयत्न करना उचित समझता था जो खत्म होने जा रही हो और मेरे विचार से संसार से कन्याओ का खात्मा नामुमकिन था । क्यूंकि पुरूष उसका अंत नही कर सकता , यह मैं पुरुषों कि शक्ति को नही ललकार रहा , बस अनुमान लगा रहा हूँ । और अनुमान थोड़ा सा सही भी है , अंत करने के लिए शस्त्र होने चाहिए , पुरूष के पास सिर्फ़ एक है , बल , और नारी के पास अनेक । उनका वर्णन करने
से ये नारी पुराण बन जाएगा सो मैं अपनी लेखनी को उस धारा से विमुख कर रहा हूँ । डरते डरते मैं उस युवती से नाम पूछने गया । दूर वो वरिष्ठ बंधु हाल के एक कोने में स्वेत्वर्ण कुल्फी अपने मुंह में लपटाए मेरी प्रतीक्षा कर रहे थे , कार्य पूर्ण ना करने से वो मेरा क्या हाल करते उसका वर्णन क्रूर काम शास्त्र को पुनः लिपिबद्ध करने जैसा होगा ।

अपनी सम्पूर्ण शक्ति को जिव्हा में लेकर , गीत संगीत से गूंज् रहे उस सभागार में मैंने युवती के पास जाकर अंग्रेज़ी भाषा में कहा "एक्स क्यूज़ मी " । अब मैं शब्द विहीन हो गया था , ये पता नही कि क्यों । लेकिन मैंने पूछ ही लिया कि " मे आई नो यौर नेम? " और साथ में मुस्कुरा दिया । और वहां से उत्तर आया " सुग्रीव " । और मेरे मन ने प्रभु दर्शन की भूमिका बांधनी शुरू कर दी।

मन मंथन के उपरांत अब मैं प्रभु अवतार कि पुष्टि कर रहा था , फिर से मैंने नाम पूछा । पुष्टि हो गई । दो बार मेरे कान धोखा नही खा सकते । थोड़ा सा मुख से भी प्रतीत हो रहा था । मैं कुचालें मारता हुआ वरिष्ठ बंधुओं को यह सूचना देने गया । जाते ही पहले मैंने मलाई युक्त कुल्फी का एक सूड्का मारा और बताया कि सुग्रीव है नाम सुग्रीव । मेरा ये कहना था कि मेरे ऊपर लात घूसों कि बरसात हो गई , ये कहू कि प्रलयंकारी बरसात थी तो कदापि अनुचित ना होगा । नरम गद्दे गरम हो गए थे । मुझे धिक्कार के उन्होंने कहा कि " तू किसी काम का नही
, एक लड़की का नाम भी नही पता कर सकता सही से , और तूने ये सोच भी कैसे लिया कि लड़की का नाम सुग्रीव हो सकता है " । सच कहू तो पहली बार सुनने के बाद मैंने भी सोचा था कि इस युवती के परिजनों को कोई और नाम नही मिला क्या ॥ पर मन मयूर तो बावला सा हो गया था प्रभु के अवतार के बारे में सोचकर । अब नाक कट जाने से मैं सूर्पनख बन गया था । मन व्याकुल सा हो गया था और ह्रदय चीख -२ कर कह रहा था कि क्या इस कलियुग में प्रभु कभी अवतार लेंगे ?


जो भी हो , मेरे वरिष्ठ बंधुओं ने मुझे उस मरीचिका का नाम बता दिया था " सुप्रीत " । क्षमा प्रार्थी हूँ मैं सुप्रीत ॥

Wednesday, January 28, 2009

"भ्रमण अथवा परिभ्रमण" - गोल पृथ्वी

मैं किसी अन्य प्राणी की नक़ल पसंद नही करता हूँ , परन्तु अपनी एक परम "बिलाव" मित्र के विगत कुछ दिनों की लेखन के प्रति वाचाल प्रवृति से प्रेरित होकर अपनी बुद्धिमानी का गद्य हस्त्बद्ध कर रहा हूँ . सायंकाल के भ्रमण हेतु मैं अपने निवास स्थान से कई किलोमीटर की दूरी पर स्थित बी टी ऍम लेआउट से ब्रिगेड रोड के लिए निकला। वो एक उद्देश्य की पूर्ति के लिए की जा रही ऑटो रिक्शा यात्रा थी। अपना वाहन न होने की कुंठा उस वक्त ह्रदय को विदीर्ण कर देती है जब किसी मृगी की मोहक द्रिष्टी नयनो की चाहरदीवारी लांघकर आपके आँगन में अठखेलियाँ खेलने लगे और आप उसे सायंकाल के सूरज की तरह यातायात बत्ती पर डूबता देख रहे हों । इसे अपना सौभाग्य कहूँ या विपरीत , मन की यह चंचलता हमेशा चपलता के आयाम से वंचित रही। उन्ही जलती - बुझती बत्तियों का अनुसरण करते हुए वाहनों की कतार जोड़ता - तोड़ता हुआ मैं अपने गंतव्य पर पहुँच गया । द्रव्य का अनाकारण व्यय मन को थोड़ा सा स्थिर कर देता है । ऐसे मन वाला मैं, काले शत्रु की दूकान में चला गया जहाँ से मुझे अपना पतलून लेना था ( यहाँ यह बताना उचित समझूंगा कि यह काला शत्रु और कोई नही ब्लैक बैरी का शोरूम था ). पतलून लेकर मैंने अपने निवास स्थान के लिए पग बढाये ।

अमूमन नए स्थान पर भ्रमण दीर्घ कालीन अनिश्चितताओं का जनक होता है । मैं इस शहर का चांदनी चौक कहलाने वाले इस स्थल पर दूसरी बार आया था , पहली बार मैं यहाँ ठीक एक दिन पहले अपने मित्रो के साथ द्रव्य बहाने की दौड़ में भाग ले रहा था । मुझे यहाँ आने का मार्ग तो सही से पता था किंतु यहाँ से जाने का नही , कातर मन अपनी महाभारत के अभिमन्यु से तुलना करने में व्यस्त था और ह्रदय घर वापिस जाने के लिए आतुर । विद्वानों की भाषा शैली में मैं उपरोक्त वाक्य के आधार पर मूर्ख कहलाता अगर आने और जाने का मार्ग एक ही होता । मैंने उसी दिशा में कदम बढाये जहाँ से मैं पहले दिन अपने मित्रो के साथ आया था । इस समय सायंकाल के छः बज रहे थे । तब मैं उस मार्ग पर पहुँचा जहाँ से मैं अपने निवास स्थान अर्थात ब्रुक फिल्ड से आता हूँ , पर इस मार्ग पर वाहनों के गमन की दिशा मेरे गंतव्य के विपरीत थी । समय की हानि होता हुआ देख मैंने एक यातायात पुलिस कर्मी से मर्थाल्ली जाने का मार्ग पुछा । भारतीय परम्परा को निभाते हुए उसने मुझे बस पकड़ने के लिए स्टाप पहुँचने का मार्ग यूँ बताया - यहाँ से सीधे अगली बत्ती पे जाओ वहां से दाए फिर सीधे अगली बत्ती पर और फिर दाए वहां पर एक स्टाप है वहां से बस मिलेगी । सहायता कितनी ही पीडादायिनी हो , कृतज्ञता अपना अस्तित्व नही मिटने देती । मैंने उस व्याख्यान को सुनकर धन्यवाद कहा और बस पकड़ने की आशा में उस मार्ग पर चल दिया । मार्ग में पूर्व वर्णित पुरूष के दो और बंधुओ से सहायता लेते हुए मैं एक जगह पहुँचा । हास्यप्रद तथ्य यह है की मैं २ किलोमीटर दूरी तय करने के पश्चात वापस बिग्रेड रोड पर पहुँच गया था और मुझे ये पता नही चला कि मैं पिछले एक घंटे से एक वर्ग ( स्कुआ यर ) में गतिशील था , जिसका मेरे घर से निकटतम कोना ब्रिगेड रोड थी । हे ईश्वर ऐसे प्राणी को प्रणाम । मै ब्रिगेड रोड के बगल से निकलता हुआ सेंट्रल माल पहुँचा , उसे देखते ही मुझे बिलाव मित्र का स्मरण हो आया । मुझे ये पता था कि एक स्थान जिसे लाइफ स्टाइल कहते हैं अगर मैं वहां पहुँच जाऊं तो मुझे अपने घर के लिए बस मिल जायेगी । और मैं पथ मै आती हुए हर चकाचौंध भरे कोने को लाइफ स्टाइल समझ उठता था , सेंट्रल मॉल तो मुझे पास जाने पर पता चला दूर से तो वो मुझे लाइफ स्टाइल ही लगा था । उसके बाद एक मोड़ आया और मेरे मन का दीपक ज्योति से जगमगा उठा । अपनी संस्कृति से दूर जल रहे इस दीपक की बाती बहुत छोटी थी । सामने लाइफ स्टाइल की जगह भगवान् विष्णु का वाहन ( गरुड़ )अपने शरीर के कोटरों मे मनुष्यों की आवाजाही का द्योतक बना विराजमान था . अब तन और मन रूपी ईश्वर ज्योति मंद हो चुकी थी . दोनों विश्राम के लिए शेष सैया की इच्छुक थी। एक और यातायात कर्मी के सहयोग से मैंने उसी स्थान से वोल्वो बस पकड़ी और अपने निवास स्थान पहुँच गया । और मैंने ख़ुद को विजयी घोषित किया ।

अगर यह मेरी ज्यामिति अनुकरण का अंत होता तो शायद सही होता । मैंने ये गद्य भी नही लिखा होता । अगले ही दिन अपने किसी मित्र के साथ किसी कार्य के लिए फिर से मैं लाइफ स्टाइल से अगले स्टॉप रिचमोंड रोड गया । वहां पहुंचकर मुझे पिछले जून मे अपने कार्यस्थल के दर्शन हुए । और फिर से बस पकड़ने के लिए मैं उसे सड़क के आगे चलता रहा । मुझे नही पता था की मैं उसी मार्ग पर चल रहा हूँ जहाँ कल मैंने अपनी विजय यात्रा पूरी की थी । थोडी ही देर में एक स्थान पर मैंने पास के पेट्रोल पम्प को देखकर कहा कि ये मैंने कल भी घर जाते हुए देखा देखा था . थोड़ा गर्दन उठा कर देखा तो वह स्थान ब्रिगेड रोड का एक कोना था । अब मुझे ज्ञात हुआ कि मैं पिछले दिन एक ही स्थान का विभिन्न ज्यामितीय आकृतियों में परिभ्रमण कर रहा था । कल मैंने काले शत्रु से निकल कर जहाँ से अपनी पड़यात्रा शुरू कि थी , आज वही से मुझे वो बस मिल गई जिसकी मैंने कल परिभ्रमण काल में प्रतीक्षा की । रही लाइफ स्टाइल की बात , कठिन कठिन ज्यामितीय आकारों की जगह अगर मै एक सीधी रेखा में
गतिमान रहता तो मैं कल ही लाइफ स्टाइल के दर्शन कर लेता .और वहां से घर चला जाता ।

इसे मै ब्रिगेड रोड का भ्रमण कहू या परिभ्रमण , पर इससे मै ज्यामिति और विभिन्न ज्यामितीय आकारों की बरम्बारिक निरंतरता मै निपुण हो गया हूँ . और किंचित मात्र से स्थान में पृथ्वी गोल है इस सिद्धांत का मैंने प्रयोगात्मक अध्ययन कर लिया है ।

Sunday, January 25, 2009

memories

when i was with SUN in the college days ..i had a RW blog there which has now turned into a RO blog . It reminds me the good old college days.

***************blogs.sun.com/npant *********************

Wednesday, January 21, 2009

Inbox Zero - gmail [find unread mails]

i used IMAP service using thunderbird and it was interesting to see inbox unread message count 1 (one) even when i had no unread mails , my inbox is always ZERO . Why i am telling this because before using IMAP the count in the browser was zero for the unread. and now it is one even in the browser. I thought it might be soem sync problem and tried to fix it bt relogging. but no fixes ..

found gmail discussion forum useful and got a way to search unread mails using the search field
typed in :

label:inbox is:unread

and found an unread mail, two years old ... i can't believe it , how i skipped that ... now it again

INBOX ZERO

Tuesday, January 20, 2009

diff wavenumber lines in spectrum of Isotopes

because as in the Bohr theory it is assumes that nucleus is stationary other thn the rotation on its axis , but it can only be true if its mass is infinite , it oscillates about the center of gravity. so reduced mass of the electron is

mu = m M / m + M

where m - mass of the electron , mu - reduced mass , M - mass of the nucleus


Tuesday, January 13, 2009

reset firefox default URL search to google

i was bugged by annoying
search.conduit.com after installing the Live India Toolbar , don't ever install it , it leaves a lot of bugs / spywares in ur system , even after uninstalling.

after removing it , when i typed anything in the address bar , instead of google it was looked in search.conduit.com and this was really shit , even i blocked the site using Block-Site add on it was there. then i fould something really interesting for first time users of configuration file ..of firefox

Type about:config in the address bar and hit enter :)

it asks you to keep the promise :) LOL . do keep that .
then search for

keyword.URL and right click on it and reset it :)

u are home :) happy surfing .Default URL serch is now google ...

Saturday, January 10, 2009

deactivate the caller tune on Vodaphone india

i really hate to have a caller tune, but accidentally i pressed the * at the end of the call and my friends caller tune was copied and now it was mine :( , i just hate that .....

and song was :) -

Tera mujhse hai pahle ka nata koi , yun hi nahi dil lubhata koi , jane tu ya jane na ,,,,,,,,,

to deactivate - send CAN CT to 144 ( toll free ) ..

Wednesday, January 7, 2009

FIREfox 3 on solaris 10

i was just confused why there is no option for firefox update in the default installation with solaris b79 , it was some 2.0.0.9 . Today i decided to update it ,, how can i , if there is no option for that. then i searched for firefox 3 and found it at Finger'sblog . and the i installed it with pkgadd and it was installed in
/opt/sfw/....
then all the plugins were missing . i copied all the plugins from my old setup
/usr/lib/firefox/plugins...... to the new one and it was working , still i am not getting th eralplayer working for firefox ..

i needed to make a i386 folder in /opt/sfw/lib/ and there i put the link for the libjavaplugin_nscp.so

ln -s /usr/jdk/instances/jdk1.6.0/jre/lib/i386/libjavaplugin_nscp.so /opt/sfw/lib/i386/libjavaplugin_nscp.so

this post is from the Mozilla/5.0 (X11; U; SunOS i86pc; en-US; rv:1.9.0.5) Gecko/2008122315 Firefox/3.0.5 Box :)

long live Firefox